60 करोड़ की लागत से 65 संवेदनशील बिन्दुओं पर बाढ़ निरोधात्मक कार्य जारी

सहरसा से वरिष्ठ पत्रकार अनिल वर्मा की रिपोर्ट : इस बार एक जून से ही बाढ़ अवधि की शुरुआत हो जाएगी जो 31 अक्टूबर तक जारी रहेगा। इस अवधि में जल संसाधन विभाग के कर्मचारी एवं अधिकारी की सभी छुट्टियां रद्द कर दिया गया है। वहीं पूर्वी एवं पश्चिमी तटबंध के सभी संवेदनशील बिन्दुओं पर बाढ़ निरोधात्मक कार्य चल रहा है।

उक्त बातें जल संसाधन विभाग कोशी तटबंध के मुख्य अभियंता मनोज रमन ने जानकारी देते हुए बताया।‌ उन्होंने कहा कि दोनों तटबंधों के विभिन्न संवेदनशील बिन्दुओं पर बाढ़ निरोधात्मक कार्य में करीब 60 करोड़ रूपए खर्च किए जा रहे हैं। इसके लिए 64 योजनाएं संचालित की गई है। जिनमें पूर्वी कोसी तटबंध पर 41 एवं पश्चिमी तटबंध पर 23 योजनाएं शामिल है।

ये भी पढ़ें : कोशी परियोजना का दंश : तटबंध के अन्दर पानी नहीं तो क्या आएगा ?

सभी बिंदुओं पर बाढ़ निरोधात्मक कार्य युद्ध स्तर पर जारी है ताकि बाढ़ आने के बाद तटबंध सुरक्षित रहे। मुख्य अभियंता ने बताया कि इस बार जलवायु परिवर्तन के कारण 15 दिन पहले बाढ़ अवधि शुरू कर दी गई है। पहले बाढ़ अवधि की शुरुआत 15 जून से 15 अक्टूबर तक रहती थी। इस बार परिवर्तन किया गया है। वहीं एक जून से विभाग से जुड़े सभी लोगों के यह छुट्टियों को रद्द कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें : कोशी नदी में उतरा लाल पानी, कोरोना काल में संभावित बाढ़ से सहमें दियारा वासी

उन्होंने बताया कि तटबंध के सभी संवेदनशील स्थानों पर रौशनी, पेयजल, सुरक्षा का प्रबंध रहेगा। कोसी नदी में इस माह के दूसरे सप्ताह से पानी आना शुरू हो जाएगा। सहरसा जिले के महिषी प्रखंड के कुंदह के निकट बलिया सिमर गांव के निकट नई तकनीकी से कार्य किया जा रहा है ताकि बाढ़ का प्रभाव ना पड़े।

चलते चलते ये भी देखें :