चप्पे-चप्पे पर थी फोर्स की तैनाती, पांचवें दिन भी रहा 30 जोड़ी ट्रेनें रद्द
  • मंगलवार से रेल परिचालन सामान्य होने की जताई जा रही है उम्मीद

सहरसा / भार्गव भारद्वाज : सोमवार को भारत बंद को लेकर सहरसा जंक्शन पर रेलवे संपत्ति की सुरक्षा के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा लगा हुआ था। पुलिस सुरक्षा ऐसी कड़ी कि परिंदा भी पर न मार सके। आरपीएफ, जीआरपी, रेलवे स्टेशन फोर्स, पैरामिलिट्री फोर्स और एसएसबी के जवान सहरसा स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था में तैनात देखे गए।

सहरसा-मानसी, सहरसा-सुपौल और सहरसा-पूर्णिया रेलखंड के सभी रेलवे स्टेशनों पर रेलवे सुरक्षा बल की स्पेशल फोर्स लगाई गई थी। सिमरी बख्तियारपुर स्टेशन, सोनवर्षा कचहरी, कोपड़िया, धमारा घाट, बदला घाट, बैजनाथपुर, मधेपुरा, पंचगछिया, गढ़बरुआरी, सुपौल आदि रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद थी। सोमवार को पूरे दिन पुलिस फोर्स रेलवे स्टेशन पर मार्च करता रहा। सुरक्षा व्यवस्था ऐसी सख्त रखी गई थी कि प्रदर्शनकारी रेलवे स्टेशन तक नहीं पहुंच सके।

ये भी पढ़ें : सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र में भारत बंद असरदार, प्रदर्शन, रेल चक्का जाम

आरपीएफ इंस्पेक्टर बंदना कुमारी, सब इंस्पेक्टर रवि रंजन, जीआरपी इंस्पेक्टर राम सोरेन, जीआरपी थाना अध्यक्ष रविंद्र कुमार सिंह और सदर अंचल इंस्पेक्टर राजमणि की मॉनिटरिंग में पुलिस फोर्स दिनभर रेलवे स्टेशन परिसर के हर क्षेत्र का निरीक्षण करती रही। ऐसे में प्रदर्शनकारी रेलवे स्टेशन की ओर रूख नहीं कर सके। गंगजला रेलवे ढाला, बंगाली बाजार रेलवे ढाला, स्टेशन परिक्षेत्र के सर्कुलेटिंग इलाका सहित अन्य परिक्षेत्र में के चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात थी।

बाहरी व्यक्तियों पर के प्रवेश पर लगा था प्रतिबंध : रेलवे स्टेशन परिक्षेत्र में भारत बंद को लेकर सुरक्षा बल पूरी चाक-चौबंद थी। साथ ही रेलवे परिक्षेत्र में किसी भी बाहरी लोगों का प्रवेश पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया था। सिर्फ रेलवे के कर्मचारी और रेलवे अधिकारी ही रेलवे परिक्षेत्र के इलाके में प्रवेश कर सकते थे। साथ ही रेलवे स्टेशन की सुरक्षा के लिए मजिस्ट्रेट को भी प्रतिनियुक्त किया गया था। जिसके कारण कोई भी बाहरी व्यक्ति स्टेशन परिक्षेत्र के इलाके की ओर नहीं जा पा रहे थे। जिससे रेलवे की सारी संपत्ति पूरी तरह सुरक्षित रही।

पांचवें दिन भी रही 30 जोड़ी ट्रेन कैंसिल : भारत बंद को लेकर पांचवें दिन भी सहरसा रेलवे स्टेशन से खुलने वाली सभी 30 जोड़ी पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेनें रद्द रही। सहरसा-मानसी, सहरसा-सुपौल और सहरसा-पूर्णिया तीनों रेलखंड पर यात्री ट्रेनों का परिचालन नहीं हो सका।

मंगलवार से पटरी पर लौटेगी वैशाली, क्लोन और राज्यरानी : मंगलवार से रेल पटरी पर ट्रेनों का परिचालन शुरू किया जाएगा। सहरसा-नई दिल्ली वैशाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस, क्लोन हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन, राज्यरानी एक्सप्रेस ट्रेन, जनहित एक्सप्रेस सहित अन्य ट्रेनों का परिचालन मंगलवार से शुरू कर दिया जाएगा। हालांकि कुछ ट्रेनों का रैक सहरसा में उपलब्ध नहीं होने से उन ट्रेनों का परिचालन मंगलवार से नहीं हो पाएगा।

ये भी पढ़ें : भारत बंद का सिमरी बख्तियारपुर में दिखा असर, रानीबाग में सड़क जाम

रेल अधिकारियों की माने तो सोमवार रात 8 बजे से ट्रेनों का फिर से परिचालन शुरू हो जाएगा। जिन रेलवे स्टेशनों पर खुलने वाली ट्रेनों का रैक उपलब्ध है। उन ट्रेनों को मंगलवार को रवाना किया जाएगा। हालांकि अन्य ट्रेनों का रैक 2 से 3 दिनों के अंदर रि-स्टोर कर ट्रेनों का परिचालन फिर से शुरू कर दिया जाएगा।

सोमवार को भारत बंद का प्रभाव रेलवे पर नहीं पड़ा। ऐसे में रेलवे में ट्रेनों का परिचालन सोमवार रात 8 बजे से शुरू हो जाएगा। सहरसा-मानसी , सहरसा-पूर्णिया और सहरसा-सुपौल रेलखंड पर पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन मंगलवार से शुरू हो जाएगा। रेल अधिकारियों के मुताबिक सब कुछ ठीक रहा तो बुधवार से तीनों रेल खंडों पर सभी ट्रेनों का परिचालन शुरू हो जाएगा।

मंगलवार को बंद रहेगी सहरसा-बांद्रा एक्सप्रेस : छात्र आंदोलन के मद्देनजर सहरसा से बांद्रा जाने वाली बांद्रा हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन सहरसा से मंगलवार को रद्द रहेगा। वहीं रविवार को बांद्रा से खुल कर मंगलवार को सहरसा आने वाली बांद्रा हमसफर एक्सप्रेस मंगलवार को सहरसा जंक्शन नहीं आएगी।

चलते चलते ये भी पढ़ें : अग्निवीर प्रदर्शन: कोचिंग संचालक गुरु रहमान के ठिकानों पर पटना पुलिस की छापेमारी, जल्द हो सकते हैं अरेस्ट