उपद्रवी भीड़ द्वारा सड़क जाम कर पुलिस जीप क्षतिग्रस्त कर पुलिस बलों को जख्मी मामले में दोनों युवक पर दर्ज है केस

सिमरी बख्तियारपुर(सहरसा) ब्रजेश भारती : सिमरी बख्तियारपुर – सहरसा सड़क मार्ग के बगरौली ढाला के समीप बीते 19 फरवरी की सुबह सड़क हादसे में दो छात्रों की मौत उपरांत आक्रोशित भीड़ द्वारा सड़क जाम कर तोड़फोड़ व पुलिस जीप को क्षतिग्रस्त करने के मामले में दर्ज केस के दो नामजद अभियुक्त गौरव कुमार और सुजीत कुमार को मंगलवार की रात बख्तियारपुर पुलिस ने गुप्त सुचना के आधार पर रायपुरा से गिरफ्तार कर लिया।

वही गिरफ्तारी से गुस्साए परिजनों और ग्रामीणों ने बुधवार की सुबह बख्तियारपुर थाना पहुँच कर थाना का घेराव कर पकड़े गए दोनो नामजद अभियुक्त को छोड़ने की मांग को लेकर हंगामा करने लगे। वही हंगामे की सूचना पर पूर्व जिप उपाध्यक्ष रितेश रंजन बख्तियारपुर थाना पहुंचे और आक्रोशित परिजनों सहित ग्रामीणों से बात की।

ग्रामीणों से बातचीत उपरांत मीडिया से बात करते हुए रितेश ने कहा कि प्रशासन जितनी तत्परता आवाज उठाने वालों को गिरफ्तार करने में दिखाती है। उतनी ही तत्परता मृतक दो भाइयों के परिजनों को मुआवजा दिलाने में करती तो आज उस परिजन को मुआवजा मिल गया होता। उन्होंने कहा कि घटना के दिन सभी बड़े पदाधिकारियों ने जल्द – से – जल्द मुआवजा दिलाने की बात कही थी।

लेकिन वक्त बीतते के साथ सबकुछ शांत हो गया। प्रशासन यदि अपनी सक्रियता मुआवजा दिलाने में लगाये तो इस तरह के मामले में लोगो का विश्वास प्रशासन पर बढ़ेगा। लेकिन दुर्भाग्य यह है कि मृतक भाइयों के पिता घटना के कई महीने बाद भी मुआवजे के लिए दर – दर भटक रहे है।

इस दौरान प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने बताया कि स्थानीय नेताओं द्वारा सोची – समझी साजिश के तहत इस केस में नाम दिया गया और अब तक परिजनों को मुआवजा नही मिला है। इधर गिरफ्तारी से आक्रोशित परिजनों और ग्रामीणों को बख्तियारपुर थानाध्यक्ष कृष्ण कुमार द्वारा समझा – बुझा कर घर भेजा।

यहां बता दे कि फरवरी महीने की उन्नीस तारीख को बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के रायपुरा पंचायत के बालू टोल बदिया निवासी संजय सिंह के दो पुत्र रौशन कुमार (21 वर्ष) एवं रूपेश कुमार (16 वर्ष) दोनो सगे भाई एक्टीवा स्कूटी बीआर 19 क्यू 1497 से मैट्रिक की परीक्षा देने आरएम कॉलेज जा रहा थे। जैसे ही बगरौली ढाला से थोड़ा आगे बढ़े विपरीत दिशा से आ रही एक ऑटो में सीधी टक्कर हो गई।

टक्कर के बाद दोनो छात्रों ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया था। दोनो भाइयों के मौत के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने चार घंटे तक सड़क जाम कर दिया था। जिसके बाद सड़क जाम हटाने आये पुलिस प्रशासन की गाड़ी में आक्रोशित ग्रामीणों ने तोड़फोड़ भी की थी और इस घटना में दो होमगार्ड के जवान भी घायल हुए थे।जिसके बाद होमगार्ड के बयान के आधार पर मामला दर्ज किया गया था