छात्र नेताओं ने कहा असमाजिक तत्वों का संरक्षक बनें हुए हैं कल्याण पदाधिकारी

सहरसा / भार्गव भारद्वाज : जननायक कर्पूरी छात्रावास में शराब पार्टी करने वाले छात्रों पर कोई कार्रवाई नहीं करने पर आक्रोशित हुए छात्र संगठनों ने में शामिल एनएसयूआई, एआईएसफ, छात्र जदयू, राजद, आइसा, इंकलाबी नौजवान सभा ने संयुक्त रुप से जिला कल्याण पदाधिकारी का पुतला फुंका।

बतातें चलें कि गत दिनों सहरसा समाहरणालय रोड स्थित जननायक कर्पूरी छात्रावास में कुछ छात्रों के द्वारा शराब पार्टी का आयोजन किया गया जिसकी वीडियो वायरल होने के बाद छात्र नेताओं ने जिला कल्याण पदाधिकारी और जिला पदाधिकारी सहरसा को अवगत कराया साथ ही विभिन्न दैनिक समाचार पत्र में छपी खबर के मुताबिक मामले की जांच एवं कार्रवाई के आश्वासन जिला प्रशासन ने दिया।

लेकिन अभी तक इस बातों की कोई खुलासा नहीं हो पाई है कि छात्रावास के अंदर बाहरी असामाजिक तत्व किसके आदेश से अंदर जाकर शराब पार्टी कर रहा था। शराब पार्टी करने वाले लोगों को शराब कहां से उपलब्ध कराई गई साथ ही सीसीटीवी कैमरे एवं आगंतुक पंजी का जांच नहीं करवाना यह दर्शाता है कि हॉस्टल प्रशासन की मिलीभगत से बाहरी तत्वों का छात्रावास के अंदर आना जाना लगा रहता है और शराब पार्टी की जाती है उनके संरक्षक हॉस्टल प्रशासन ही है।

छात्र संगठन एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक मनीष कुमार ने कहा कि जिला कल्याण पदाधिकारी बताए कि किस दबाव पर शराबियों और असामाजिक तत्व को बचाने में लगे हुए हैं वीडियो स्पष्ट तौर पर छात्रावास का है इस बातों की पुष्टि पूर्व में भी कई छात्रों ने आवेदन के माध्यम से जिला कल्याण पदाधिकारी को अवगत करवाया साथ ही जिन छात्रों के कमरे में शराब पार्टी हो रही थी उनका नाम भी दर्ज करवाया किंतु जिला कल्याण पदाधिकारी किसी बड़े राजनीतिक दबाव में आकर शराब माफिया को बचाने में लगे हुए है।

एआईएसएफ नेता शंकर कुमार ने कहा की छात्रावास अधीक्षक के द्वारा गत दिन कुछ छात्रों को निष्कासित करने की बात कही गई थी किंतु कोई लिखित कार्रवाई नहीं की गई और बाद में छात्रों पर दबाव डालकर जिला कल्याण पदाधिकारी को आवेदन दिलवाया गया कि वीडियो इस छात्रावास का है ही नहीं जबकि इस वीडियो और अखबार में छपी नाम जिन छात्रों के कमरे में पार्टी हो रही थी उनकी जांच की जाए तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा साथ ही सीसीटीवी खंगाला जाय कि कुछ दिन पहले कितने बाहरी छात्रा करके इस छात्रावास में शराब पार्टी मनाई थी।

हॉस्टल अधीक्षक बताएं कि पूर्व के दिनों हॉस्टल में अवैध उगाही के आरोप में जिन असामाजिक तत्वों पर सदर थाना में 133/21 मुकदमा दर्ज है उनकी नामांकन छात्रावास में कैसे ली गई। प्रशासन 24 घंटे के अंदर हॉस्टल में अवैध लड़कों को ले जाने वाले छात्रों पर कार्रवाई नहीं करती है तो सभी छात्र संगठन अनिश्चितकालीन आमरण अनशन की शुरुआत करेगी।

छात्र जदयू बिहार प्रदेश के अभिषेक गजेंद्र मुन्ना ने कहा कि छात्रों को शराब पीना गलत बात है और असंवैधानिक रूप से हॉस्टल में शराब पीकर वीडियो डालना प्रशासन को खुली चुनौती मिल रही है फिर भी कल्याण पदाधिकारी इस पर संज्ञान नहीं ले रहे हैं अगर कल्याण पदाधिकारी इस्तीफा नहीं देते हैं तो तो लगातार आंदोलन जारी रहेगा। छात्र जदयू जिलाध्यक्ष गौरव बंटी ने कहा कि एक और जहां मुख्यमंत्री शराबबंदी को लेकर समाज सुधार यात्रा कर रहे हैं वही सहरसा जिला प्रशासन में बैठे जिला कल्याण पदाधिकारी शराब माफिया को छात्रावास में संरक्षण थे सरकार की नीतियों की धज्जियां उड़ा रहे है। जिला कल्याण पदाधिकारी बताएं कि छात्रावास के अंदर शराबी और असामाजिक तत्व प्रवेश कैसे करती है छात्रावास के अंदर किसके परमिशन से शराब पार्टी हो रही थी। सीसीटीवी कैमरा क्यों क्यों नहीं खंगाला गया।

राजद के जिला सचिव सह प्रवक्ता जावेद अनवर चांद ने कहा कि दोषियों पर उचित कार्रवाई हो और यह वीडियो की सत्यता सामने आने के बाद भी जिला कल्याण पदाधिकारी के द्वारा कोई कार्यवाही ना करना एक बड़ा सवाल खड़ा करता है। इंकलाबी नौजवान सभा के राज्य कार्यकारिणी सदस्य कुंदन यादव ने कहा शिक्षा का मंदिर शराबियों और असामाजिक तत्वों का अड्डा बनता जा रहा है जिस पर जिला प्रशासन का कोई पकड़ नहीं है। पूर्व में दर्ज मुकदमे के आधार पर अगर असामाजिक तत्वों की गिरफ्तारी हो जाती तो इस तरह की घटना नहीं होता और छात्र संगठनों में इस तरह का आक्रोश नहीं होता।

मौके पर एनएसयूआई नेता नीतीश यदुवंशी, राहुल कुमार, कांग्रेस आईटी सेल सुपौल जिला अध्यक्ष अंकित झा, छात्र जदयू के विश्वविद्यालय उपाध्यक्ष निखिल कुमार, एआईएसफ के जिला अध्यक्ष रजनीकांत कुमार, विपिन कुमार, सूर्य प्रकाश कुमार, गौरव, नीतीश कुमार, मंजेश, करण, अभिमन्यु कुमार, सुदेश कुमार छात्र जदयू के रोशन कुमार सहित कई मौजूद थे।