सिमरी के तीन वार्डो को कर दिया गया छिन्न भिन्न, राजनीतिक साज़िश का बताया परिणाम

सिमरी बख्तियारपुर(सहरसा) ब्रजेश भारती : नवगठित नगर परिषद सिमरी बख्तियारपुर में वार्ड के प्रारूप का प्रकाशन के साथ ही इसमें बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की शिकायत मिलने का सिलसिला शुरू हो गया है।

सोमवार को सिमरी बाजार के तीन वार्डो के सैकड़ों लोगों ने समाजसेवी सह अधिवक्ता किशोरी प्रसाद केशरी के नेतृत्व में प्रखंड कार्यालय एवं अनुमंडल कार्यालय पहुंच जमकर विरोध जताते हुए वरीय अधिकारियों को मांग पत्र सौंपा।

एसडीओ और बीडीओ को दिये आवेदन में ग्रामीणों ने कहा है कि सिमरी बख्तियारपुर अंतर्गत सिमरी पंचायत में वार्ड परिसीमन में सुधार कर वार्ड संख्या 11, 12 और 13 को मिलाकर एक वार्ड बनाया जाये.पदाधिकारियों को दिये आवेदन में ग्रामीणों ने कहा है कि ग्राम पंचायत सिमरी में वार्ड संख्या 11, 12 और 13 वार्ड एक दूसरे से सटे हुए हैं जो आज भी सिमरी बाजार है।

लेकिन कुछ राजनीतिक साजिश के तहत वार्ड नंबर 12 को 2 किलोमीटर दूर कर दिया गया है, जो गलत है। वार्ड नंबर 11 को लगभग डेढ़ किलोमीटर दूर किया गया है। जो मतदाता के लिए सुविधाजनक नहीं है।  वार्ड नंबर 11, 12, 13 में अनुसूचित जाति, अत्यंत पिछड़ा वर्ग और बनिया निवास करते हैं जो लोग हर चुनाव में शांतिपूर्वक वोट करते आ रहे है।

नजरी नक्शा, नगर परिषद सिमरी बख्तियारपुर

ग्राम ढाब और बलुआ पार के लोग काफी दबंग है.जिस कारण खतरा बना रहता है। राजनीतिक प्रभाव में आ कर तीन सटे वार्डो का परिसीमन दूरी वाले ग्राम में जोड़ा जाना गलत है। इसलिए सिमरी बाजार के वार्डो को नगर परिषद सिमरी बख्तियारपुर में एक वार्ड में परिसीमन किया जाये।

यहां बताते चलें कि वार्ड परिसीमन में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। सीमांकन से लेकर जनसंख्या का अंतर एक वार्ड से दुसरे वार्ड में बहुत अंतर देखा जा रहा है, इतना ही नहीं सीमांकन में सड़क, मुख्य स्थल का कही कहीं स्थान दिया गया लेकिन बहुतों जगह अलग रेखा खींच सीमांकन किया गया है जबकि आसपास सीमांकन के लिए सड़क व नहर है। अब देखने वाली बात होगी कि आपत्ति के बाद क्या बदलाव देखने को मिलता है या फिर पुराने प्रारूप पर अंतिम प्रकाशन कर दिया जाएगा।