• तीन पुत्रों में सबसे बड़ा है रेलवे कर्मी, दो भाई कर रहा था पटना में रहकर पढ़ाई, जांच में जुटी पुलिस

सहरसा से अमन कुमार की रिपोर्ट : हाल के कुछ दिनों में युवाओं द्वारा फंदे से लटकर कर अपनी जीवन लीला समाप्त करने की प्रवृत्ति में वृद्धि देखी जा रही है। बुधवार की शाम सहरसा शहर के शिवपुरी मुहल्ला वार्ड नंबर 14 निवासी 22 वर्षीय युवक रौशन कुमार ने अपने ही घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।

मृतक युवक, फाइल फोटो

घटना की जानकारी मिलते ही प्रशिक्षु डीएसपी सह सदर थानाध्यक्ष निशिकांत भारती ने पुलिस बलों के साथ घटनास्थल पहुंचकर मामले की छानबीन शुरू की। घटना केा लेकर घर पर आसपास लोगों की भीड़ जुट गयी। पुलिस ने घरवालों से भी पूछताछ की तथा शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मृतक की मां माला देवी ने पुलिस को बताया कि बुधवार की सुबह में करीब दस बजे नाश्ता करने के बाद रौशन अपने कमरे में पढाई के लिए चला गया। घर में हमलोग घरेलू कामकाज में जुट गए। शाम में करीब चार बजे पटना में रहनेवाले मेरे पुत्र राहुल ने फोन कर मुझे बताया कि रौशन फोन नहीं उठा रहा है। इस पर मैं जब उसके कमरे को खुलवाने के लिए आवाज लगायी तो कोई आवाज नहीं आयी।

तब मैं खिड़की केा खोलकर देखा कि मेरा पुत्र फंखे में फंदा से लटक रहा है। उसे देखते ही घर में चीख पुकार मच गयी। चीख पुकार सुनकर आसपास पड़ोस के लोग भी जुट गए। तब पुलिस को इसकी सूचना दी गयी। रौशन का शव पंखे से लटक रहा था। पास ही एक कुर्सी पडी थी। शिवपुरी निवासी स्व. अरविद यादव के तीन पुत्रों में रौशन कुमार सबसे छोटा था। इससे बड़ा भाई रेलवे में नौकरी करता है।

राहुल कुमार और रौशन कुमार भी पटना में रहकर रेलवे की तैयारी करते थे। लॉकडाउन में रौशन घर आकर पढाई करने लगा। इनकी मां माला देवी स्थानीय सिविल कोर्ट में कार्यरत है। घटना के संबंध में मृतक की मां माला देवी ने पूछने पर बतायी कि उसकी किसी के साथ कोई दुश्मनी नहीं थी। बस पढ़ाई से ही वह मतलब रखता था। सदर पुलिस ने इस मामले में मृतक का मोबाइल को जब्त कर उसकी तहकीकात शुरू कर दी है। आत्महत्या का स्पष्ट कारण अब तक पता नहीं चला है।

YOU MAY ALSO LIKE : Lingayat seers mount show of strength for community man Yediyurappa as ouster rumour takes off