सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के तरियामा पंचायत के तरियामा गांव निवासी जख्मी पूर्व वार्ड सदस्य 38 वर्षीय अरबिंद कुमार साह की इलाज के क्रम में बीते मंगलवार को मौत होने की सूचना पर रविवार को पूर्व जिप उपाध्यक्ष रितेश रंजन ने मृतक के घर पर पहुंच शोकाशुल परिवार को सांत्वना दिया।

इस मौके पर रितेश रंजन ने कहा कि अरबिंद साह की हत्या ने हर किसी को झकझोर दिया है। छेड़खानी का विरोध करने पर इस तरह की घटना को अंजाम देने बदमाशो के मनमानेपन को दर्शाता है। रितेश ने कहा कि बख्तियारपुर पुलिस जल्द – से – जल्द बांकि बचे नामजद आरोपियों को गिरफ्तार करे।

मालूम हो कि पूर्व वार्ड सदस्य मृतक अरबिंद कुमार साह के भाई श्यामल किशोर साह के आवेदन पर बख्तियारपुर थाना में कांड संख्या 162/21 दिनांक 8/6/21 दर्ज किया गया था.जिसमें मृतक के भाई ने कहा था कि 6 जून की रात्रि करीब 9 बजे के आसपास गांव के ही एक नावालिग लड़की घर से पश्चिम दिशा में शौच के लिए निकली थी। जो कि शौच करने गई नावालिग लड़की के साथ गांव के ही स्व पृथ्वीचन्द साह के पुत्र अंकित कुमार तथा महेश्वर साह के पुत्र प्रवेश कुमार छेड़खानी करने लगा।

छेड़खानी के दौरान लड़की के द्वारा हल्ला किये जाने पर मेरे मंझले भाई अरबिंद कुमार साह दौर कर जब वहां पहुंचा तो दोनों युवकों को छेड़खानी करने से मना किया तो दोनों के बीच विवाद हो गया। जिसके बाद समाज की पहल पर मामला शांत हुआ। इसके बाद दूसरे दिन सुबह में 7 जून को मेरा भाई अरबिंद ने दोनों युवक के माता – पिता को शिकायत करने के लिए गया तो वहां भी तू – तू मैं – मैं हो गया।

जिसके कुछ देर बाद दोनों युवक अंकित कुमार, प्रवेश कुमार सहित उसके परिजन दायमाला देवी, महेश्वर साह, सरीता देवी, गजेन्दर प्रसाद साह, कृष्ण कुमार उर्फ भनुआ, दिवेन्दर साह, सोभिन साह, रविन्द्र साह, चन्देश्वरी साह तथा चुनचुन कुमार ने हथियार से लैस होकर मारपीट करने लगा। जो कि हथियार के बट से लाठी डंडे सहित लोहे की रड से सर पर मारने लगा।

जिसमें सर पर अधिक चोट लगने के कारण वह बेहोश होकर गिर गया। जिसके बाद अपने जख्मी भाई को वहां से उठाकर अनुमंडलीय अस्पताल सिमरी बख्तियारपुर इलाज के लिए लाया। जहां पर प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल सहरसा रेफर कर दिया गया वहां से भी मधेपुरा रेफर कर दिया गया। लेकिन सहरसा में ही नया बाजार स्थित एक निजी क्लिनिक में इलाज के क्रम में मौत हो गई।