कई दशकों के बाद कोशा दियारा के लोगों पर जिला प्रशासन की मेहरबानी आ रही है नजर

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) ब्रजेश भारती : कई दशकों के बाद सहरसा जिले के कोशी दियारा के लोगों पर जिला प्रशासन की मेहरबानी दिख रही है। तटबंध के अंदर पहले बेलवाड़ा में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की शुरूआत कर चिकित्सा सुविधा बहाल की गई। उसके बाद शुक्रवार को जिलाधिकारी कौशल कुमार के प्रयास से सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड के कठडुमर मध्य विद्यालय के प्रांगण में स्वास्थ्य शिविर -सह- मेगा कैम्प का आयोजन किया गया।

विगत दिनों बेलवाड़ा में अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को क्रियाशील करते हुए संस्थागत प्रसव की सुविधा उपलब्ध करायी गयी। इसी क्रम में कठडूमर एवं आस-पास के पंचायतों घोघसम, धनपूरा आदि पंचायत के काफी बड़ी संख्या में लोगों ने स्वास्थ्य शिविर -सह-मेगा कैम्प के माध्यम से उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं एवं सेवाओं का लाभ उठाया। स्वास्थ्य जांच एवं स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ-साथ भू-लगान एवं दाखिल-खारिज संबंधी, सामाजिक सुरक्षा के अंतर्गत पेंशन संबंधी, मनरेगा से संबंधित योजनाओं, विद्युत सहित आर.टी.पी.एस. के तहत उपलब्ध करायी जा रही सेवाओं का लाभ दिया गया।

डीएम ने इस अवसर पर कहा कि इस स्वास्थ्य -सह- मेगा कैम्प शिविर के माध्यम से इन सुविधाओं से वंचित लोगों को काफी लाभ मिला है। जिला प्रशासन का उद्देश्य है कि तटबंध के अंदर जितने भी पंचायत हैं जो सुदूर हैं एवं जहां आवागमन की कठिनाई है वहां इस तरह की शिविर के माध्यम उस क्षेत्र के नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधा एवं सेवाएं मुहैया करायी जाय। यह निरंतर जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि यहां के लोगों की चिर परिचित मांग थी कि कठडुमर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को आरंभ कराया जाय ताकि संस्थागत प्रसव सहित अन्य स्वास्थ्य सुविधाएं यहां के लोगों को उपलब्ध हो सके। कठडुमर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को सुदृढ़ किया जाएगा। स्वास्थ्य शिविर के अंतर्गत ओपीडी, नेत्र जांच, शिशु रोग जांच, दवा वितरण, विकलांगता जांच, सहित आठ का काउंटर लगाए गए थे।

आमजनों की स्वास्थ्य की हुई जांच : मेगा शिविर के माध्यम से 672 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। जिसमें से 14 मोतियाबिद के मरीजों को ऑपरेशन हेतु सदर अस्पताल रेफर किया गया। स्वास्थ्य जांच के उपरांत नि:शुल्क दवा भी वितरण किया गया। वहीं 22 लोगों की विकलांगता की जांच, 37 की एएनसी जांच, 29 व्यक्तियों को परिवार नियोजन का परामर्श, 121 को गर्भनिरोधक गोलियों का वितरण, 23 गर्भवती महिलाओं को टेटनश की सूई दी गई।

ओपीडी के माध्यम से 319 पुरूषों, 72 बच्चों तथा 116 महिलाओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया वहीं 34 व्यक्तियों का ओर्थो ओपीडी अंदर स्वास्थ्य जांच की गई। कठडुमर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के वर्तमान भवन का भी जिलाधिकारी ने निरीक्षण किया।

होगा भवन निर्माण : जिलाधिकारी ने उप विकास आयुक्त को भवन के निर्माण में गुणवत्ता सुनिश्चित कराने हेतु अनुश्रवण करने का निर्देश दिया। मनरेगा के तहत भवन के सामने पेभर ब्लॉक लगाने का निर्देश दिया गया। मेगा कैम्प के माध्यम से भू-लगान रसीद की शिकायतों एवं समस्याओं के निराकरण, बिजली बिल से संबंधित जानकारी, विद्युत संबंधी समस्याओं एवं नये विद्युत कनेक्शन काउंटर लगाए गए।

दिव्यांगों को मिली साइकिल : शिविर में 04 दिव्यांगजनों को जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा तिपहिया साइकिल दिया गया। जिलाधिकारी को अपने बीच पाकर काफी संख्या में लोगों ने जिलाधिकारी को अपनी समस्याओं के निराकरण हेतु परिवाद पत्र दिया। जिलाधिकारी ने सभी की समस्याओं को ध्यान से सुना और समस्याओं के निराकरण की दिशा में संबंधित पदाधिकारी को आवश्यक निर्देश दिया। शिविर में मुख्य रूप से आवास योजना, पेंशन योजना, भूमि संबंधी, बासगीत पर्चा, शौचालय, भूमि संबंधी समस्याओं हेतु जिलाधिकारी को परिवाद पत्र दिया गया।

मौके पर उप विकास आयुक्त राजेश कुमार सिंह, सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सिमरी बख्तियारपुर वीरेन्द्र कुमार, सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा, अंचलाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी सिमरी बख्तियारपुर सहित सभी संबंधित विभागों के पदाधिकारी एवं कर्मीगण उपस्थित रहे।