जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों से हुई मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार हुए शहीद

मधेपुरा : जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में शहीद हुए कैप्शन आशुतोष कुमार मधेपुरा के घैलाढ़ प्रखंड के भतरंथा परमानपुर पंचायत के रहने वाले थे। उनके पिता रवींद्र यादव पशु अस्पताल में कार्यरत हैं। वह अपने माता-पिता के इकलौते पुत्र थे। माता गीता देवी गृहणी हैं। उनकी दो बहने हैं, जिनका नाम खुशबू कुमारी और अंशू कुमारी शामिल है।

स्वजनों का रो-रोकर बुरा हाल : कैप्टन आशुतोष के निधन की सूचना मिलते ही गांव में शोक छा गया। उनके घर पर लोगों का तांता लग गया। वहीं, स्वजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। हालांकि देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहूति देने वाले सपूत पर लोगों को गर्व है। लोगों का कहना है आशुतोष के शहीद होने दुख तो है पर जम्मू कश्मीर में तीन आतंकियों को मार गिराए जाने को लेकर संतोष है।

बचपन से ही मेधावी थे आशुतोष : ग्रामीणों ने बताया कि आशुतोष मिलनसार थे। वह पढ़ने के दौरान काफी मेधावी थे। गांव आने पर वह नौजवानों को सेना में जाने के लिए काफी प्रेरित करते थे। वह युवाओं को सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करने के लिए हमेशा प्रोत्साहित करते थे। उनके निधन से आसपास के गांवों में युवा भी गमगीन हैं।

आशुतोष की शहादत पर ग्रामीणों को है गर्व : मधेपुरा के घैलाढ़ प्रखंड के भतरंथा परमानपुर पंचायत के रहने वाले थे आशुतोष की शहादत पर ग्रामीणों को गर्व है। ग्रामीणों ने बताया कि मधेपुरा का इतिहास रहा है कि स्वतंत्रता संग्राम में भी यहां के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था। कारगिल युद्ध के दौरान भी सहरसा का एक लाल शहीद हुआ था।

माता पिता के साथ शहीद आशुतोष (फाइल फोटो)

आशुतोष की शहादत से ग्रामीण दुखी तो हैं पर दुश्मन देश और आतंकवाद के खिलाफ उनके मन में आक्रोश भी है। ग्रामीणों का कहना है कि आतंकियों के साथ जिस तरह लोहा लेते हुए आशुतोष न अपनी शहादत दी, उससे यह गांव नहीं बल्कि पूरे जिले का नाम रोशन हुआ है। शहीद आशुतोष के शव के आने का इंतजार इलाके के लोग बेताबी से कर रहे हैं।

बताया जा रहा है कि रविवार की अहले सुबह बीएसएफ के 12 जवानों की टीम पाकिस्तान बार्डर से सटे माछिल इलाके में पेट्रोलिंग कर रही थी। इसी दौरान पांच आतंकियों को घुसपैठ करते देखा गया। इसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई।

ये भी पढ़ें : सहरसा : शहीद कुंदन की पत्नी को जिलाधिकारी ने सौंपा नियुक्ति पत्र

इसमें कैप्टन आशुतोष ने दो आतंकियों को मार गिराया। हालांकि बाद में आतंकियों की गोलीबारी में आशुतोष समेत चार जवान शाहिद हो गए। जबकि कुछ अन्य के घायल होने की सूचना है। इस कार्रवाई में तीन आतंकी भी मारे गए हैं।

चलते चलते ये भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर: कुपवाड़ा मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए तीन आतंकी, एक कैप्टन और तीन जवान शहीद https://www.tv9bharatvarsh.com/india/jammu-kashmir-kupwara-army-killed-terrorist-infiltration-attempt-350675.html