सौरबाजार, सोनवर्षाराज, नवहट्टा एवं वनगांव को नगर पंचायत बनाने का प्रस्ताव

सहरसा : जिले वासियों को जल्द ही खुशखबरी मिल सकती है। अगर डीएम के प्रस्ताव को हरी झंडी मिल जाती है तो शहर को नगर निगम का दर्जा मिलेगा। वहीं सिमरी बख्तियारपुर को नगर परिषद का और सौरबाजार, सोनवर्षा, नवहट्टा एवं बनगांव को नगर पंचायत का दर्जा मिल सकता है।

Logo.

नगर विकास एवं आवास विभाग ने डीएम को पत्र लिखकर नए नगर निकाय के गठन और पुराने नगर निगम के उत्क्रमन के लिए प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया था। जिसके बाद जिला प्रशासन ने वर्तमान में सहरसा शहर को नगर परिषद से उत्क्रमण कर नगर निगम का दर्जा देने का प्रस्ताव दिया है। वहीं सिमरी बख्तियारपुर नगर पंचायत का उत्क्रमण कर नगर परिषद बनाने का प्रस्ताव दिया है। जबकि सौरबाजार, सोनवर्षा, नवहट्टा व बनगांव को नगर पंचायत बनाने का प्रस्ताव दिया है। बताया जा रहा है कि बनगांव को नगर पंचायत का दर्जा देने के लिए एक मामला कोर्ट में भी है।

ये भी पढ़ें : नगर पंचायत वासियों को जल्द मिलेगा नया आधुनिक एम्बुलेंस सेवा का लाभ

मालूम हो कि नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव आनंद किशोर ने डीएम को पत्र लिखकर 21 मई तक नगर पंचायत को नगर परिषद में, नगर परिषद को नगर निगम के रूप में उत्क्रमित करने का प्रस्ताव नक्शा एवं अनुशंसा सहित भेजने के लिए कहा है। यह प्रक्रिया पूर्व में भी शुरू हुई थी लेकिन पहले बिहार नगरपालिका अधिनियम की धारा तीन में नगरपालिका क्षेत्रों का गठन एवं वर्गीकरण किए जाने संबंधी प्रावधान के कारण कुछ कठिनाइयां उत्पन हो रही थी।

नगर परिषद सहरसा

पहले के प्रावधान में यह अंकित था कि गैर कृषि जनसंख्या 75 फीसदी या उससे अधिक होगी। विधि विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अंतर्गत 75 फीसदी या अधिक गैर कृषि जनसंख्या की बाध्यता खत्म कर दिया है। राज्य मंत्रीमंडल की स्वीकृति के बाद विधि विभाग द्वारा जारी अधिसूचना में नगरपालिका गठन के लिए वर्तमान शर्तों को संशोधित कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें : नोएडा से गोरखपुर: जानिए निजी गाड़ी से यात्रा को लेकर क्या है लॉकडाउन 4.0 में नियम – https://aajtak.intoday.in/story/lockdown-4-private-vehicle-guidelines-delhi-to-gorakhpur-car-bike-home-ministry-inter-intra-state-1-1191831.html

जिसके तहत सभी दशाओं में दीर्घकालिक व अल्पकालिक काश्तकार कर्मियों (कृषि कालोनी) की कुल संख्या उस क्षेत्र की कुल कर्मियों की जनसंख्या का पचास फीसदी से कम होगी। इसके अलावा वृहत्तर शहरी क्षेत्र की दशा में नगर निगम के लिए जनसंख्या दो लाख या उससे अधिक होगी। मध्यम शहरी क्षेत्र की दशा में नगर परिषद क्षेत्र के लिए चालीस हजार या उससे अधिक लेकिन दो लाख से कम जनसंख्या होगी। नगर पंचायत के लिए बारह हजार या उससे अधिक और चालीस हजार से कम होगी।

नगर पंचायत सिमरी बख्तियारपुर

बनेंगे कई नगर निकाय : पुराने प्रावधानों में संशोधन के बाद राज्य में कई नगर निगम व सौ से अधिक नगर पंचायत गठित होने की संभावना है। संसोधन के बाद नगर पंचायत को नगर परिषद व नगर परिषद को नगर निगम बनाने में आसानी होगी। छोटे शहरों को नगर पंचायत बनाने से वहां नगर निकायों में उपलब्ध होने वाली साफ-सफाई, ड्रेनेज, जलापूर्ति, कचरा संग्रहण, स्ट्रीट लाइट आदि की सुविधा मिलेगी। नए बनने वाले नगर निकायों का मास्टर प्लान तैयार कर सुनियोजित रूप से विकास होगा।

प्रस्ताव तैयार कर नगर विकास विभाग को भेजा जा रहा : जिलाधिकारी कौशल कुमार ने कहा कि शहरी क्षेत्र को नगर परिषद से नगर निगम में व सिमरी बख्तियारपुर को नगर पंचायत से नगर परिषद में उत्क्रमण करने का प्रस्ताव दिया जा रहा है। इसके अलावा सौरबाजार, सोनवर्षा, नवहट्टा व बनगांव को नगर पंचायत का दर्जा दिए जाने का प्रस्ताव नगर विकास विभाग को भेजा जा रहा है। इनपुट लाइव हिन्दुस्तान।