एसडीओ के सुरक्षा गार्ड में तैनात हैं होमगार्ड पिता गजेन्द्र कुमार, मां है गृहणी

सिमरी बख्तियारपुर(सहरसा) ✍ ब्रजेश भारती : कहा गया है कि अगर जज्वा व जुनून हो तो आसमान में भी सुराक किया जा सकता है बस तबियत से एक पत्थर भर उछालने भर कि देरी होती है। इस कहानी को सही साबित किया है सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड अंतर्गत सिमरी पंचायत के ढाव गांव निवासी होमगार्ड के जवान गजेन्द्र कुमार का छोटा पुत्र आशिष कुमार ने।

अंकपत्र आशिष कुमार

गत दिनों जारी बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा जारी मैट्रिक परीक्षा 2020 में अपने विद्यालय में सबसे अधिक 452 अंक प्राप्त कर टापर बन अनुमंडल क्षेत्र में दुसरा स्थान प्राप्त किया है। साधारण परिवार में जन्मे आशिष का बड़ा भाई पटना में पढ़ाई करता है। सफलता से जहां गृहणी मां प्रतिमा देवी फुले नहीं समा रही है वहीं आसपास के ग्रामीणों में खुशी देखी जा रही है।

ये भी पढ़ें : सहरसा : मैट्रिक परीक्षा में राजकुमार ने लहराया परचम जिले में लाया दुसरा स्थान

वहीं सिमरी बख्तियारपुर एसडीओ वीरेंद्र कुमार को अपने सुरक्षा गार्ड गजेन्द्र के पुत्र की सफलता का खबर मिला तो वे बधाई देते हुए आशिष का मुंह मिठा कर उज्जवल भविष्य की शुभकामना दिए। उन्होंने कहा कि मेहनत करने वालों को सफलता जरूर मिलती है। हमसे शिक्षा के क्षेत्र में जो भी सहयोग होगा हम आशीष कुमार का करेंगे।

आशिष का मुंह मिठा करते एसडीओ वीरेंद्र कुमार सहित अन्य

वहीं पिता गजेन्द्र कुमार ने बताया कि डीसी इंटर कॉलेज में डोमेस्टेटर के पद पर कार्यरत हूं लेकिन आर्थिक परेशानी की वजह से होमगार्ड ज्वाइन कर लिया। बड़े पुत्र रौशन कुमार की पढ़ाई के साथ आशिष की पढ़ाई व घर चलाना बहुत मुश्किल काम है लेकिन हमने कभी दोनों पुत्रों को पढ़ाई में आर्थिक कमजोरी को रोड़ा बनने नहीं दिया। दोनों पुत्रों को बड़े पद पर बिराजमान देखने की तमन्ना है।

ये भी पढ़ें : भारतीय रेलवे का दावा- 3,276 ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेनों’ से करीब 42 लाख प्रवासी मजदूरों को पहुंचाया गया – https://khabar.ndtv.com/news/india/indian-railways-ferries-41-lakh-migrants-back-home-on-shramik-special-trains-2235306/amp/1

वहीं आशीष ने बताया कि वह आगे चलकर आइएएस बनना चाहता है। आशिष बताते हैं कि सिमरी गांव स्थित उच्चतर माध्यमिक विद्यालय से पढ़ाई किया है। वहीं संत टैरेसा स्कूल के शिक्षकों के सानिध्य में परीक्षा की तैयारी कर रहा था गुरूजनों के मार्गदर्शन से आज उन्हें यह सफलता प्राप्त किया है। उन्होंने कहा कि अगर गांव में भी रह कर कड़ी मेहनत व लगन से पढ़ाई की जाए तो सफलता अवश्य प्राप्त होती है।

सफलता पर विजय प्रतीक चिह्न दिखाते आशिष

वहीं आशिष के सफलता पर दिनेश चंद्र यादव इंटर कॉलेज के प्राचार्य जियालाल यादव, डीएन मिश्रा, मनोवर अशरफ, भुवनेश्वर सिंह, गौतम कुमार, पूनम कुमारी, श्रीसंत, शंभू नाथ झा, सुशीला, विकास कुमार सहित अन्य लोगों ने बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की है।

YOU MAY ALSO LIKE : Reopening responsibly: Dubai being back in business ‘a ray of hope’, residents say – https://www.khaleejtimes.com/coronavirus-pandemic/dubai-being-back-in-business-a-ray-of-hope-residents-say–