99 प्रतिशत छात्रों ने प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हो बढ़ाया मान

सहरसा : देश कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लॉकडाउन है लेकिन बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पटना ने समय से पहले इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया है। इस बार 80 प्रतिशत छात्रों ने सफलता प्राप्त की है।

ये भी पढ़ें : गजब का खेल : 17 लाख गबन के आरोपी को दे दिया विद्यालय प्रधान बनाने का आदेश

वहीं सहरसा स्थित वेव क्लासेस के शत-प्रतिशत छात्रों ने सफलता प्राप्त कर सेंटर का नाम रौशन किया है। सेंटरके 99 प्रतिशत बच्चे हुए प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने के साथ ही शत प्रतिशत सफलता दिला संस्थान ने कीर्तिमान स्थापित किया।

छात्र केशव, फरहीन, पूजा, खुशबू, मोनाली, सचिन, अलका, मोनिका, क्रांति आदि बच्चों ने प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण हुआ है। गत वर्ष भी इस संस्थान ने बेहतर रिजल्ट दिया था। इस वर्ष भी वेव क्लासेस ने इंटरमीडिएट Examination- 2020 में अपना परचम लहराया है।

ये भी पढ़ें : Bihar Board 10th Result 2020: 10वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम इस समय हो सकता है घोषित, बिहार मैट्रिक रिजल्ट अपडेट https://m.jagran.com/lite/news/education-bihar-10th-result-2020-check-expected-date-of-announcement-of-bseb-matric-result-biharboardonline-bihar-gov-in-20141716

बताते चलें कि पिछले 3 वर्षों से संस्थान ने हर वर्ष कोसी क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है उसी तरह इस बार भी 99% छात्रों ने फर्स्ट डिवीजन से परीक्षा पास की इस तरह के प्रदर्शन से छात्रों एवं शिक्षक के बीच खुशी का माहौल है।

लोगो ब्रजेश की बात

रिजल्ट के आने के साथ छात्रों को फोन करके बधाई दी गई साथ हीं अभी चल रहे कोरोना के खतरे के कारण जारी लॉक डाउन का पालन करने का नसीहत दिया गया तथा घर में रह कर ही खुशी मनाए और आगामी प्रतियोगिता परीक्षा के मद्देनजर घर पर ही स्वाध्याय करें और स्वाध्याय करने के दौरान जो भी कठिनाइयां आएंगे उसको वेव क्लासेस के शिक्षक के द्वारा ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई शुरू करने का प्रयास कर दिया गया है।

YOU MAY ALSO LIKE : Exams or exercise, it’s all happening inside hostel rooms for IAS and IPS trainees https://theprint.in/india/governance/exams-or-exercise-its-all-happening-inside-hostel-rooms-for-ias-and-ips-trainees/387464/

इस सफलता पर संस्थान के संस्थापक राजेश कुमार ने कहां की यह सफलता हमारे शिक्षकों एवं बच्चों के कठिन प्रयास से संभव हो पाया है हम आभारी है उन सभी शिक्षकों का जिन्होंने कोसी ऐसे पिछड़े इलाकों में आकर यहां के बच्चों को तराशने का काम किया जिसके परिणाम स्वरूप सहरसा ऐसे छोटे शहर में मेडिकल (नीट एवं एम्स) के रिजल्ट के साथ वेव क्लासेज अपनी अलग पहचान बनाने में जुटे हैं