बच्चों को संविधान की प्रस्तावना एवं मौलिक कर्तव्यों की दी गई जानकारी

मधेपुरा : संविधान सर्वोच्च विधि है, लेकिन कई अर्थों में यह विश्व के अन्य संविधानों से भिन्न है। इसकी उद्देशिका विशिष्ट है। इसके अनुसार संविधान की सर्वोपरिता का मुख्य शक्ति स्नोत ‘हम भारत के लोग’ हैं। ‘हम भारत के लोगों’ ने संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए इस संविधान को अधिनियमित व अंगीकृत किया है।

उक्त बातें प्रभारी प्रधानाध्यापक रिजवाना इसराइल ने कही।वे आज कन्या मध्य विद्यालय चौसा में संविधान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

ये भी पढ़ें : सिमरी बख्तियारपुर : कैनरा बैंक का 114 वां स्थापना दिवस धूमधाम से मनाया गया

बाल संसद के शिक्षक संयोजक संजय कुमार सुमन ने कहा कि भारत के संविधान निर्माता के डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने भारतीय संविधान के रूप में दुनिया का सबसे बड़ा संविधान तैयार किया है। यह दुनिया के सभी संविधानों को परखने के बाद बनाया गया। उन्होंने कहा कि राजनीतिक तंत्र में मूल अधिकारों के प्रति सजगता जरूरत से ज्यादा है। विचार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोकतंत्र का आधार है।

ये भी पढ़ें : बिहार के एक गांव में कोई भी नहीं खाता प्याज, जानें पूरी कहानी – https://www.livehindustan.com/astrology/story-no-one-eats-onion-in-a-village-in-bihar-learn-the-full-story-about-thakurbadi-temple-and-triloki-bigha-village-2867958

यह हमारे संविधान का मूलरस है, लेकिन प्राय: इसका दुरुपयोग होता है। विधायी सदनों में असीम वाक् स्वातंत्र्य है, लेकिन संसदीय सदनों का शोर आहतकारी है। अधिकार भोग के साथ कर्तव्य पालन भी प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है।

वरीय शिक्षक हकीम उद्दीन ने कहा कि प्रत्येक दिन स्कूलों में बच्चों को संविधान की प्रस्तावना एवं मौलिक कर्तव्यों की जानकारी दी जाती है।संविधान दिवस मनाने का मकसद नागरिकों को संविधान के प्रति सचेत करना, समाज में संविधान के महत्व का प्रसार करना है।

YOU MAY ALSO LIKE : Cost of India visa-on-arrival for Emiratis revealed – https://m.khaleejtimes.com/international/india/cost-of-india-visa-on-arrival-for-emiratis-revealed

इस अवसर पर प्रतिभा गुप्ता, संजीवानंद, उमेश प्रसाद यादव, शुभम कुमारी,बिंदुला कुमारी, विभा कुमारी,पुरुषोत्तम कुमार,अमीम आलम, बाल संसद के प्रधान मंत्री साक्षी कुमारी, उपप्रधानमंत्री गुंजन कुमारी,स्वास्थ्य एवं स्वच्छता मंत्री उम्मे हबीबा, खुशबू कुमारी,बाल संसद के मंत्री गण एवं दर्जनों बच्चे शामिल थे।