आक्रोशित परिजनों ने शव को लेकर अस्पताल बरामदे पर बैठ दिया धरना प्रदर्शन

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) @Brajesh_Bharti. सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड क्षेत्र के सिमरी पंचायत के भौरहा आंगनबाड़ी केंद्र पर शनिवार को नियमित टीकाकरण के बाद एक जुड़वां बच्चे की तबियत बिगड़ गई। जिसके बाद अस्पताल ले जाने के क्रम में एक बच्चे की मौत हो गई।

जबकि दूसरे बच्चे को बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया है। घटना से आक्रोशित परिजनों ने बच्चे का शव लेकर अस्पताल बरामदे पर रख जोरदार प्रदर्शन कर धरना पर बैठ गया। परिजनों का कहना था कि टीकाकरण में एएनएम ने लापरवाही बरती है जिसकी वजह से बच्चे की मौत हो गई। बच्चे को तीन दिन पहले से बुखार होने के बाद टीकाकरण कर दिया जिसकी वजह से ये घटना घटित हुई।

ये भी पढ़ें : घर में सो रहें 12 वर्षीय बच्चे की सर्पदंश से मौत, सांप को पकड़ कर मार डाला

घटना के संबंध में बताया जाता है कि विजय शर्मा के जुड़वां नाती जिसकी उम्र करीब ढ़ाई माह को नियमित टीकाकरण के लिए शनिवार को स्थानीय भौरहा आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका बुला कर लाई। दोनों बच्चों का टीकाकरण किया गया। टीकाकरण के बाद देर रात दोनों बच्चे का तबियत खराब होने लगा जिसके बाद बच्चों को अनुमंडलीय अस्पताल इलाज के लिए ले जाया जाने लगा जिस क्रम में एक बच्चे की मौत हो गई।

वहीं दुसरे बच्चे का तबियत और खराब होने पर उसे बेहतर इलाज के लिए सहरसा रेफर कर दिया गया। उसके बाद मृत बच्चे का शव अस्पताल बरामदे पर रख धरना पर बैठ गया। हालांकि अस्पताल उपाधीक्षक एन के सिन्हा प्रदर्शन कर रहे लोगों को समझाने बुझाने का प्रयास किया लेकिन वे नहीं माने।

ये भी पढ़ें : कोसी नदी में स्नान के क्रम में बड़ा हादसा चार बच्चे डूबें दो की मौत

हालांकि बाद में बख्तियारपुर थानाध्यक्ष अनिल कुमार सिंह ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को समझा बुझाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए सहरसा भेज धरना खत्म करा दिया। उन्होंने बताया कि मृतक बच्चे के रिस्तेदार विजय शर्मा के फर्दबयान पर लापरवाही का आरोप आशा एवं एएनएम पर लगाया गया। पुलिस अग्रतर कार्रवाई कर रही है।

वहीं इस मामले पर सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल के उपाधीक्षक का कहना है कि एएनएम से पता चला है कि बच्चे के परिजनों द्वारा नही बताया गया कि बच्चा पहले से बीमार है और उस समय बच्चे को बुखार नही था। जबकि उसी दिन अन्य बुखार से पीड़ित बच्चों को वापस कर दिया गया। शेष अन्य बच्चों का टीकाकरण किया गया अन्य सभी बच्चे सुरक्षित हैं। फिलहाल इसकी जांच की जाएगी कि मौत टीकाकरण से हुआ है या किसी दूसरे वजह से।

ये भी पढ़ें : बेखौफ बदमाशों ने सैलून बंद कर घर जा रहें युवक को गोली मार मौत के घाट उतारा

बहरहाल अस्पताल उपाधीक्षक ने जांच करने की बात कही है आगे देखने वाली बात होगी कि आखिर बच्चे की मौत वाकई स्वास्थ्य कर्मियों के लापरवाही से हुई या अन्य किसी वजह से।