एनएच अतिक्रमण मामला, पूर्व जिप उपाध्यक्ष की अगुवाई में बैठक आयोजित

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) ब्रजेश भारती : सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र में एनएच 327 ई विस्तारीकरण के लिए अनुमंडल प्रशासन द्वारा अतिक्रमित जमीन खाली कराने के लिए जारी किया गया निर्देश का विरोध शुरू हो गया है।

बिना सोचे समझे प्रशासन द्वारा वर्षों से सड़क किनारे बसे लोगों ने इसे प्रशासन का तुगलकी फरमान मानते हुए कहा कि 24 घंटे में अतिक्रमण खाली करने का जो आदेश जारी कर दिया गया है वह भी बरसात के समय यह सही नहीं है।

ये भी पढ़ें : एनएच अतिक्रमण मुक्त का महादलितों ने किया विरोध, पहले वासडीह पर्चा दो…

सोमवार देर शाम सहरसा जिले के पूर्व जिप उपाध्यक्ष रितेश रंजन की अगुवाई में पहाड़पुर बाजार के दर्जनों व्यापारियों की एक बैठक आयोजित की गई है। बैठक को संबोधित करते हुए पूर्व जिप उपाध्यक्ष रितेश रंजन ने कहा कि एनएच 327 ई का विस्तारीकरण विकास के लिए आवश्यक है परंतु प्रशासन संवेदनहीन होकर आनन-फानन में तुगलकी फरमान जारी ना करें।

पहाड़पुर बाजार इस इलाके का प्रमुख बाजार है काफी संख्या में व्यापारी यहां अपना रोजगार करने आते हैं यहां से किए गए व्यापार से ही उनके परिवार का भरण पोषण होता है। ऐसे में जिलाधिकारी द्वारा 24 घंटे के अंदर सरकारी स्थल को खाली करने का आदेश तुगलकी फरमान नहीं तो और क्या है ?

ये भी पढ़ें : एनएच बायपास सड़क निर्माण में एक समान मुआवजा लेने से रैयतों ने किया इंकार

यहां के व्यापारी खुद ही अतिक्रमण खाली कर देंगे अभी बरसात का समय है सभी लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने इस संबंध में अनुमंडल पदाधिकारी से दूरभाष पर वार्ता कर सभी व्यापारियों की भावना से अवगत कराते हुए कुछ समय देने की मांग की।

उन्होंने कहा कि सन 1968 में यह सड़क पीडब्ल्यूडी के लिए शिविर लगाकर जमीन अधिकरण कर रैयतों को मुआवजा दिया गया था परंतु कई जगह ली गई जमीन से भी ज्यादा जमीन मापी कर लेना अनुचित है नियमत: सभी को संतुष्ट करते हुए प्रशासन जमीन को खाली करवाये।

ये भी पढ़ें : एनएच बायपास भूमि अधिग्रहण के विरोध में एक जुट हुए किसान, संघर्ष समिति गठित

इस बैठक में सरपंच प्रतिनिधि ऋतु कुमार, विनोद कुमार, अजय, गोलू, महेंद्र वर्मा, अशोक गुप्ता, अशोक भगत, प्रदीप भगत, राजेंद्र प्रसाद, बंटी कुमार आदि लोग मौजूद रहे ।