10 जून को धाप बाजार पर पुल निर्माण संघर्ष समिति के साथ बैठक उपरांत रणनीति पर चर्चा

नरेंद्र मोदी को भगवान मान एक युवक कर रहे हैं छः दिनों से अनशन

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) ब्रजेश भारती : सहरसा जिले के सलखुआ प्रखंड अंतर्गत पूर्व कोशी तटबंध के अन्दर डेंगराही घाट पर अपनी तीन विभिन्न मांगों को लेकर एक सप्ताह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भगवान मान कर कर रहे अनशन को दो चर्चित समाजसेवी नेताओं का समर्थन मिल गया है।

रितेश रंजन, प्रवीण आनंद व अन्य (फाइल फोटो)

अनशन बाबा के नाम से ख्याति प्राप्त पूर्व जिप सदस्य सहरसा प्रवीण आनंद एवं पूर्व जिप उपाध्यक्ष रितेश रंजन ने इस अनशन को समर्थन देने का फैसला किया है। इस संबंध में अगामी दस जून को धाप बाजार में पुल निर्माण संघर्ष समिति के सदस्यों के साथ एक एक व्यापक बैठक आयोजित की गई है।

ये भी पढ़ें : केन्द्रीय मंत्री से डेंगराही व ओवरब्रिज मुद्दे को लेकर मिले रितेश व प्रवीण

इस बैठक में अनशन की आगे की रणनीति सहित विभिन्न मुद्दों पर विस्तार पूर्वक चर्चा की जाएगी। उपरोक्त दोनों नेताओं ने एक संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति जारी कर मीडिया से समर्थन देने की बात कही है।

इन दोनो ने कहा कि डेंगराही घाट पर पुल निर्माण का मांग सिर्फ आवश्यकता है नहीं बल्कि जीवन जीने की मांग है । पुल के अभाव में हजारों लोगों की मौत हो चुकी है इलाका विकास से कोसों दूर है लोग जानवर से बदतर जीवन जीने को विवश हैं । पुल की मांग को लेकर भूषण साह द्वारा किए जा रहे उपवास को हमलोग समर्थन देते हैं ।

ये भी पढ़ें : पीएम नरेंद्र मोदी को भगवान मान एक युवक कर रहा है जाप…!  https://www.prabhatkhabar.com/news/saharsa/taking-a-picture-of-prime-minister-narendra-modi-began-to-chant/1289011.html

हमलोग 10 जून को उपवास स्थल पर पहुंचेंगे एवं धाप बाजार पर संध्या 3 बजे डेंगराही पुल निर्माण संघर्ष समिति के सभी सक्रिय सदस्यों के साथ एक बैठक आयोजित कर आंदोलन को और व्यापक बनाने की रणनीति तैयार करेंगे।

वहीं पूर्व जिप उपाध्यक्ष ने कहा कि इससे पूर्व इस पुल के निर्माण के लिए हम लोगों ने 17 दिन का अनशन किया था उस समय प्रतिपक्ष के नेता रहे प्रेम कुमार जी जो वर्तमान में कृषि मंत्री है एक बड़ा ठोस आश्वासन दिया था पर वह भूल चूकें हैं कि उन्होंने कोशी वासियों के साथ कोई वादा भी किया था।

नरेंद्र मोदी को भगवान मान जाप करते अनशनकारी भूषण

अब तक इस पुल निर्माण की दिशा में कोई पहल नहीं हो पाई है । आज केंद्र और राज्य में बड़ी मजबूत जनादेश की सरकार है और इस नौजवान ने इस लोकतंत्र के बड़े जनादेश से बने मजबूत प्रधानमंत्री को लोकतंत्र का भगवान मानते हुए अपनी इस क्षेत्र की विकास के लिए छोटी सी मांग जो इस इलाके के लिए जीवन का वरदान साबित हो सकता है इसके लिए अपने जीवन त्यागने तक को तैयार है।

ये भी पढ़ें : सहरसा में एम्स व डेंगराही पुल को लेकर मुख्यमंत्री से मिला शिष्टमंडल

हम लोग समिति की बैठक एवं रणनीति के बाद इस आंदोलन में कई महत्वपूर्ण समाजसेवी अनशन पर बैठेंगे एवं अपनी मांग को बड़ी मजबूती से सरकार तक पहुंचाकर मांग को पूरा करवा कर ही दम लेंगे ।

यहां बताते चलें कि भूषण साह नामक एक युवक ने करीब एक सप्ताह से डेंगराही घाट पर नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगा उसे भगवान मान अपनी तीन इक्क्षा जाहिर की है जिसमें सहरसा में ओवरब्रिज,डेंगराही घाट पर पुल एवं पर्यावरण संरक्षण सहित कई महत्वपूर्ण बात है।