आवागमन में उत्पन्न हुई समस्या के बीच नहीं शुरू हुआ कटाव निरोधी कार्य

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) ब्रजेश भारती : सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र अंतर्गत आने वाले सलखुआ प्रखंड के पूर्वी कोशी तटबंध के भीतर मुख्य कोसी नदीं में लाल पानी मई माह के प्रथम सप्ताह में ही दस्तक दे दिया है।

लाल पानी के उतरने के साथ नदी में पानी बढ़ गया है जिससे की फिलहाल आवागमन में परेशानी बढ़ गई है। पहले जहां नदी घाट तक गाड़ी घोड़ा चला जाता था वहां पानी आ जाने से परेशानी बढ़ गई है।

YOU MAY ALSO LIKEनाव पर सवार जीप फिसल ड्राइवर सहित कोशी नदी में गिरी

मई माह में ही नदी में लाल पानी उतरने के साथ कोशी नदी में कटाव तेज हो गया है। कटाव की वजह से ग्रामीण सहम गए हैं। खेत तो खेत नदी की कछार पर बसे गांव कटाव की चपेट में आ रहे हैं।

ये भी पढ़ें : लाठी डंडों से लैश दर्जनों की संख्या में लोग नदी पार कर एक घर पर बोला धावा, वीडियो वायरल

कोसी के कटाव से उटेशरा पंचायत के टेंगराहा के लोग सहमे हुए हैं। कोसी नदी की गोद में बसे उटेशरा पंचायत में कोसी का कटाव थमने का नाम नहीं ले रहा है। लेकिन जल संसाधन विभाग व जिला प्रशासन द्वारा कटाव के रोकथाम के लिए कोई उपाय नहीं किया जा रहा है। लेकिन बढ़ रहे कटाव के कारण ग्रामीण कटाव के डर से आक्रोशित है।

जबकि आपदा विभाग के मंत्री दिनेश चंद्र यादव व जिला प्रसाशन को पुनर्वास आबंटित के लिए आवेदन भी दिया गया है लेकिन इसको नजर अंदाज किया जा रहा। जबकि विस्थापित कामरा डीह के निवासियों को रहने के साथ साथ बच्चों के भविष्य की चिंता सता रही है जो कि रिटायर व वर्तमान बांध पे तीन वर्षों से तम्बू के सहारे जीवीको पार्जन करने को बेबस है।

YOU MAY ALSO LIKE : आखिर कब तक बाढ़ एवं विकास की दंश झेलते रहेंगे कोशीवासी

कटाव की रोकथाम व बचाव को लेकर बार बार गुहार भी लगाई गयी , लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उधर कटाव के उग्र रूप को देखकर ग्रामीण दहशत में हैं।

ये भी पढ़ें : इस महान संत के मंदिर में चढ़ावे के दुध से बह गया नदी का धारा

विगत वर्ष कमराड़ीह, पीपरा, जागीर, बगेवा गांव के समीप कोसी का भीषण कटाव हुआ था जिससे पूरा गांव और स्कूल नदी में विलीन हो गया था। अभी कोसी का कटाव प्राइमरी स्कूल टेंगराहा से मात्र 40 फीट की दूरी पर हो रहा है। अगर कटाव को जल्द नहीं रोका गया तो पूरा गांव व स्कूल नदी में कटकर विलीन हो जाएगा।

गत वर्ष भी कटाव के कारण यही प्राइमरी स्कूल व सड़क, पीपरा गांव, बगेवा, जागीर, कमराडीह पूरी तरह से कोसी नदी में समा गई थी, जिसे आज तक ग्रामीण उबर व भूल भी नहीं पाए। अब वही हालात फिर से सामने है।