ग्रामीण ने वरीय अधिकारियों को लिखित आवेदन देकर लगाया न्याय की गुहार

सिमरी बख्तियारपुर(सहरसा) ब्रजेश भारती की रिपोर्ट :-

सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड के सलखुआ प्रखंड के गोरदह पंचयात के एनपीएस सहगांव बराबर बंद रखने एव बच्चे की शिक्षा व्यवस्था चौपट हो गई है जब ग्रामीण इस संबंध में कुछ बोलते हैं तो उसे धमकी दी जाती है। इसको लेकर ग्रामीणों ने डीएम, एसडीओ सहित वरीय अधिकारियों को आवेदन देकर करवाई की मांग किया है।

एनपीएस का अधुरा नवनिर्मित भवन

ग्रामीण हेमंत कुमार, चंद्रदेव यादव, कपलेश्वर यादव, मिथलेश यादव, महेंद्र यादव, सुरेश यादव, रोशन कुमार, बिभीषन कुमार सहित दर्जनों ग्रामीणों ने दिए आवेदन में कहा है कि नव प्राथमिक विद्यालय सहगांव बराबर बंद रहता है। कई माह से विद्यालय में खिचड़ी भी बंद है। शिक्षक कभी-कभार आते है एव हाजिरी बनाकर घर चले जाते है।

ये भी पढ़ें :- Saharsa : सलखुआ के दियारा में शिक्षा व्यवस्था भगवान भरोसे

ग्रामीणों का कहना है कि जब हमलोग हेडमास्टर सुरेश चंद्र से स्कूल बंद रखने की बात करते है तो उल्टे ग्रामीणों पर रंगदारी का केश करने का धमकी दे देता है। आवेदन में कहा है कि चूंकि हेडमास्टर का घर स्कूल से मात्र 2-3 किलोमीटर की दूरी पर है, इस कारण दबंगई दिखता है। ग्रामीणों ने कहा है कि विद्यालय के हेडमास्टर के खिलाफ जांच कर करवाई किया जाये।

इधर बिहार मध्यान भोजन के वेबसाइट के अनुसार विद्यालय में 133 बच्चे नामांकित है। 1 मार्च का बच्चे का डिटेल्स दिया गया है। जिसमे 133 बच्चे में 1 मार्च को 82 बच्चे की उपस्थिति दिखाया गया है। जवकि 2, 4 एव 5 मार्च का कॉल नॉट कंप्लीटेड बता रहा है।

वही इस संबंध में बीईओ की मानें तो अगर इस प्रकार की कोई बात सामने आती हैं तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
इस बावत विद्यालय के एचएम सुरेश चंद्र ने बताया कि बच्चे का खाते में रुपये को लेकर विवाद है। हमने बैंक को एडवाइस भेज दिया है। ग्रामीण का आरोप बिल्कुल गलत है। दो शिक्षक है दोनों स्कूल आते है।