बिहार में महागठबंधन ने CPI को नहीं दिया था जगह, कन्हैया लड़ेंगे बेगूसराय से

  • महागठबंधन व एनडीए ने अभी तक नहीं घोषित किया खगड़िया से किसी का टिकट

खगड़िया : बिहार में महागठबंधन द्वारा देश के सबसे पुरानी पार्टी भाकपा (CPI) ने को तहरीज नहीं देना अब शायद महंगा पड़ रहा है। सीपीआई ने बड़ा दांव खेलते हुए खगड़िया लोकसभा चुनाव क्षेत्र से राजद नेत्री कृष्णा कुमारी यादव को प्रत्याशी बनाया है।

खबर की पुष्टि करते हुए कृष्णा कुमारी यादव ने कही कि हमें खगड़िया की जनता का आशीर्वाद प्राप्त हैं। खगड़िया की जनता को सांसद चाहिए। हमने पांच सालों तक जनता का सेवा किया है आगे भी यह काम अनवरत जारी रहेगा।

ये भी पढ़ें :- खगड़िया : जनता दर्शन प्रोग्राम में पीएम मोदी पर जमकर बरसीं राजद नेत्री कृष्णा

यहां बताते चलें कि खगड़िया सीट को राजद ने अन्य सहयोगी दल विकासशील इंसान पार्टी (मुकेश सहनी) के खाते में दे दी है। इस बीच सीपीआई ने एक बड़ा गेम खेलते हुए कृष्णा यादव को अपना प्रत्याशी बना डाला है। इसकी घोषणा जल्द की जायेगी।

कृष्णा यादव ने कही पड़ोसी सीट बेगूसराय से सीपीआई प्रत्याशी कन्हैया कुमार के लिए कृष्णा यादव का कुनबा सहयोग करेगा और कन्हैया भी खगड़िया में चुनाव प्रचार करेंगे।

ये भी पढ़ें :- सात दिवसीय श्रीमद भागवत कथा यज्ञ का राजद नेत्री कृष्णा यादव ने किया उद्घाटन

राजद के गठबंधन में सीपीआई को जगह नहीं देने के बाद अब इस वामपंथी पार्टी ने अपने बूते चुनाव लड़ने का फैसला किया है. इसी रणनीति के तहत उसने राजद को चुनौती पेश करने की रणनीति बनाई है। जानकारों की मानें तो यह महागठबंधन के लिए सिरदर्द ही नहीं कॉल बन सकता है।

कृष्णा यादव फाइल फोटो

जानकारों की मानें तो खगड़िया में सीपीआई का संगठन काफी प्रभावशाली माना है बतौर कृष्णा यादव कहना है कि सीपीआई के कैडर वोट और सेक्युलर वोटों की बदौलत उनकी राह आसान हो गयी है। उस पर से पांच वर्षों तक क्षेत्र की जनता के हर दुख दर्द में हमेशा साथ रहने का फायदा उसे मिलेगा।

ये भी पढ़ें :- राजद नेत्री के दो दिवसीय सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा दौरे ने बढ़ाया सियासी पारा

आपको बता दें कि खगड़िया लोकसभा क्षेत्र एनडीए के सहयोगी लोजपा की सीट है। लोजपा ने अभी तक अपना प्रत्याशी तय नहीं किया है। निवर्तमान सांसद चौधरी महबूब अली कैसर व संजीव सिंह के बीच टिकट की रस्साकसी चल रही है। बाजी किसके साथ लगती है यह देखना दिलचस्प होगा।

वही महागठबंधन का हिस्से गई इस सीट पर अमुमन मुकेश सहनी की पार्टी स्वजातीय प्रत्याशी अगर देती है तो यहां मुकाबला बड़ा दिलचस्प हो जाएगा। ऐसे में यादव बहुल खगड़िया लोकसभा सीट पर सीपीआई का दांव कारगर साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें :- राजद नेत्री कृष्णा यादव बीमार बुजुर्ग राजद नेता से मिल जाना हाल

याद रहे कि 2014 के लोकसभा चुनाव में राजद की उम्मीदवार रहीं कृष्णा यादव 2 लाख 37 हजार वोट ले कर दूसरे स्थान पर रही थीं। उन्होंने तब लोजपा प्रत्याशी महबूब अली कैसर को भारी टक्कर दी थी। यहां से जदयू प्रत्याशी दिनेश चंद्र यादव तीसरे स्थान पर रहे थे।